You are here

Real Ghost Story In Hindi | हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज

                                              


Real Ghost Story In Hindi हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज 

Real Ghost Story In Hindi | हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज, true ghost story in hindi
Real Ghost Story


Real Ghost Story In Hindi, 


ये एक सच्ची कहानी है जो मेरे पापा ने मुझे सुनाई थी, मेरे पापा ने मुझे अपनी सरकारी नौकरी

के दौरान भूत प्रेत से सम्बंधित बहुत सी सच्ची घटनाये सुनाई है उनमे से Hmm Ek 

Anokhi Darawni Awaaz जो मे आप सभी दोस्तो के सामने प्रस्तुत करूंगा ।


Real Ghost Story In Hindi, 


आज से 44 साल पहले 1976 गर्मी के मौसम की बात है मेरे पापा कोल् इंडिया लिमिटेड 

झारखंड में काम करते थे । उनकी जोइनिंग 1975 में हुई थी कंपनी के तरफ से उन्हें सरकारी
रूम भिश्रामपुर गाँव में मिला था उस समय मेरे पापा कि शादी नहीं हुई थी, उन दिनों मेरे पापा

का बहुत अच्छा दोस्त हुआ करता था उनका नाम राबुला था जो उनके साथ कोल् ईण्डीआ में 

काम करते थे।


मेरे पापा उस समय फोरमेन थे जो कोल् ट्रांसपोर्ट करने वाली गाड़ियों को ठीक करते थे 

और राबुला अंकल उस समय हेल्पर की पोस्ट में थे एक बार गाडी जेलिटान नाम की जगह जो 

की उनके सरकारी रूम से 5 km दूर खराब हो गई थी उसे ठीक करने के लिए पापा और 

राबुला अंकल साथ गए, रात के 8.30 बजे गाड़ी ठीक हुई।


Real Ghost Story In Hindi, हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज


पापा और राबुला अंकल अपने रूम की और भिश्रामपुर जंगल के रस्ते चल दिए जो एक 

शॉर्टकर्ट रास्ता था, उस समय न मेरे पापा के पास बाइक थी न राबुला अंकल के पास बाइक 

थी, उस रात चन्द्रमा कि इतनी ज़्यादा रोशनी थी की बिना किसी परेशानी से वह आगे आराम से

चल रहे थे कम से कम 2 km चलने के बाद पापा और राबुला अंकल को जंगल में एक जगह 

उल्टा खटिया दिखता है।


जिसके उपर एक बड़ा-सा पत्थर रखा हुआ था थकावट को दूर करने के लिए उन्होंने उस पत्थर

को हटा कर खटिया सीधा किया और उसके ऊपर बैठ गए और आराम करने लगे थोड़ी देर 


बाद उन्हें हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज सुनाई दी यह एक अलग-सी आवाज थी जो न 

इंसान की थी न जानवर की, हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज दुबारा सुनाई देती है जो उनके 

पीछे थोड़ी दूर झाड़ियों के पास से आ रही थी


Real Ghost Story In Hindi, 

आवाज का पता लगाने पापा झाड़ियों के पास जाते है पर आवाज झाड़ियों से थोड़ी और दूर से

आने लगती है पापा थोड़ी और दूर जाते है पर आवाज फिर थोड़ी दूर एक छोटे से नाले के पार 

से आने लगती है पापा नाले के पार पहुँचते है तो आवाज फिर थोड़ी दूर आगे से आने लगती है 

अचानक से पापा को ध्यान में आता है आवाज तो पहले खटिये के पास से आ रही थी और अब

यहाँ तकये आवाज मुझे अपनी और खींच रहा है पापा ने राबुला अंकल से पूछा आगे चले या 

वापस लौट जाये पर राबुला अंकल ने जवाब नहीं दिया जैसे पापा पीछे देखते है तो हैरान हो 

जाते है ये जान के राबुला अंकल वहाँ नहीं है, पापा इतना घबरा जाते है और तुरंत वहाँ से वापस

रूम की और भागते है।


True Ghost Story In Hindi, 


1 km आने के बाद उन्हें थोड़ी दूर सुनसान रास्ते में एक आदमी दिखता है वह और कोई नहीं 

राबुला अंकल थे, अगले दिन काम पर राबुला अंकल को पापा ने बहुत डांटा और कहा मुझे वहाँ

अकेला छोड़ के क्यों भाग गया था, उन्होंने कहा में हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज सुन के 

डर गया था फिर पापा ने पूछा कब भागा था वहाँ से फिर राबुला अंकल ने बताया जब आप
झाड़ियों की और जाने लगे थे। 



उसी दिन पापा ने पता लगाया उस जगह के बारे मैं तो पता चला कि वह जगह कब्रिस्तान था 

और वहाँ एक औरत की आत्मा भटकती है कुछ आदिवासियों ने ये भी कहा उस नाले के कुछ 

दूर आगे एक बहुत बड़ा इमली का पेड़ है उस पेड़ के नीचे भूत, प्रेत रहते है जो आते जाते 

लोगों को भटका कर अपनी और खींचते है,


Real Ghost Story In Hindi, हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज,  

यह बात सुनने के बाद पापा और राबुला अंकल उस जगह पर दुबारा जाते है ये देखने के लिए

की जो बात उन्होंने आदिवासियों से सुनी है क्या वह सच है या झूठ है परन्तु पापा और राबुला 

अंकल जैसे ही उस जगह खटिये के पास पहुँचते है तो ये देख के हैरान हो जाते है कि उस जगह

पर खटिया फिर से उल्टा पड़ा है जिसके ऊपर फिर से पत्थर रखा हुआ है और जिस जगह 

पर पापा और राबुला अंकल खटिया सीधा करके बैठे थे उसी जगह के नीचे बड़ा-सा गड्ढा है,


दूसरी ओर उस नाले के कुछ दूर आगे पापा और राबुला अंकल को बहुत बड़ा इमली का पेड़ 

दिखता है जिसे दूर से देख के उन्हें डर लग रहा था, आज भी उनसे इस बात का जिक्र करे तो 

पापा सोच मैं पड़ जाते है और कहते है अगर मैं उस पेड़ के पास पहुँच जाता तो पता नहीं मेरे 

साथ क्या हो जाता।


True Ghost Story In Hindi, 

दोस्तों आपको क्या लगता है क्या सच में उस इमली के पेड़ के नीचे भूत, प्रेत रहते होंगे, अगर
नहीं तो हम्म एक अनोखी डरावनी आवाज किस चीज की थी, या उस खटिया को छेड़ने से उस 

बुरी आत्मा को जगा दिया गया थाआप कमेंट करके हमे अपनी राय ज़रूर बताये।



दोस्तों इस स्टोरी को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद, बहुत जल्द आपके लिए एक 

और सच्ची घटना पे आधारित कहानी ले कर वापस आयूंगा। …





                    


Leave a Reply

Top